Citizen speaks: Save Annandale Save Shimla

2

By: Sumit Vashisht

Brig. Sharma, please make these people realize that Army is the only organization in India that is still free of corruption and the dirty politics. Making a Cricket Stadium is nothing but just the game of dirty politics. Why didn’t they highlight this issue five years ago, and why now, when the elections are drawing near.

जो बन सके तो कोई बात बना लो यारो,
ये मर रहा है शहर इसको बचा लो यारो

हज़ार ज़ख़्म हैं इसकी सभी ढलानों पर,
टपक रहा है लहू इसके कोहसारों से.
वो देवदार और चीड के घने साये,
कहाँ पे मांगने जाएँ यहाँ दीवारों से.

कहाँ हैं वादियाँ ओढे लिबास बादल का,
कहाँ है डूबते सूरज की लालिमा की देहक.
कहाँ हैं दूर तक फ़ैली हुयी चरागाहें,
कहाँ है बांसुरी की धुन वो घंटियों की खनक.

वो गया वक्त है चाहो तो बुला लो यारो
ये मर रहा है शहर इसको बचा लो यारो…….

वो एक दौर था जब इसकी रह गुज़ारों पर,
मक़ाम बख्शते थे लोग अपनी बातों को.
कोई निहारता था दिन में इसकी रानाई,
कोई निहारता था इसमें अपनी रातों को.

डरा डरा सा अब फिरता है अपनी गलियों में,
उडे हुए हैं सभी रंग इसके चेहरे के.
चढ़ी है धूल परत परत इसकी चोटी तक,
था एक दौर इसके पैर भी सुनहरे थे.

ये लड़खडा रहा है इसको संभालो यारो.
ये मर रहा है शहर इसको बचा लो यारो……

जो बन सके तो कोई बात बना लो यारो.
ये मर रहा है शहर इसको बचा लो यारो.

2 COMMENTS

  1. Sir,
              Poem is good as well as the movement to save Anndale ground is also good and I personally with the Idea that save Annadale ground but as far as first line is concerned army is as corrupt as the other departments are …………….

  2. Annandale ground should be kept with the army personnels only. It should not be converted into a stadium………….

Comments are closed.